टी20 वर्ल्डकप में टीम इंडिया के प्लेइंग XI में कैसे मिल सकती है शिखर धवन को जगह

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क  

शिखर धवन को श्रीलंका के खिलाफ 18 जुलाई से खेली जाने वाली लिमिटेड ओवर की सीरीज के लिए भारतीय टीम का कप्तान बनाया गया है। टी20 वर्ल्ड कप से पहले ये दौरा काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है। शिखर धवन की कोशिश होगी कि इस दौरे में बल्ले से चमक बिखेरकर वो टी20 वर्ल्डकप में टीम इंडिया की प्लेइंग इलेवन के लिए अपना दावा मजबूती से रखे। भारत के पूर्व तेज गेंदबाज अजीत आगरकर का मानाना है कि आगामी टी20 वर्ल्डकप में टीम इंडिया में बतौर ओपनर धवन के शामिल होने के चांस कम हैं।

अजीत आगरकर ने कहा,' हाई स्पीड रेसिंग कारो(T20) और टिकाऊ वाहनों (टेस्ट) की लड़ाई में धवन हमेशा एक ऑल्टो कार की तरह थे। वह भारतीय टीम की जरूरतों को अपने अंदाज में पूरा करा करते थे। इस वजह से वो वनडे टीम में प्लेइंग इलेवन का अनिवार्य हिस्सा बन गए। लेकिन टी 20 में वो ऐसा नहीं कर पाए'। ये समस्या तब शुरू हुई जब केएल राहुल ने टी20 इंटरनेशनल में 140 से अधिक की स्ट्राइक से रन बनाना शुरू किया।  जबकि धवन का स्ट्राइक इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ रेट 127 से नीचे का रहा।

भारत बनाम श्रीलंका के ऑफिशियल ब्रॉडकास्टर सोनी स्पोर्ट्स द्वरा आयोजित एक वर्चुअल कॉन्फ्रेंस में आगरकर ने कहा,'शिखर ने इंग्लैंड के खिलाफ पहला टी20 खेला और फिर अगले चार मैचों के लिए बाहर हो गए। उन्होंने वापसी की और उनके आईपीएल असाधारण रहा। आईपीएल के पिछले सीजन में भी वह शानदार थे। वह कुछ गलत नहीं कर रहे हैं।' आईपीएल 2021 के स्थगित होने से पहले उन्होंने 8 मैचों में दिल्ली कैपिटल्स की तरफ से 380 रन बनाए। इसमें उनका स्ट्राइक रेट 135 के आसपास रहा। 

आगरकर का मानना है कि धवन के टी20 वर्ल्ड कप में प्लेइंग इलेवन में शामिल होने के चांस कम हैं। उन्होंने कहा कि धवन केवल इतना कर सकते हैं कि श्रीलंका में अधिक से अधिक रन बनाकर वो केएल राहुल पर दबाव बनाए रखें। उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि उन्हें स्कोर बनाना होगा खासकर टी20 में। मुझे नहीं लगता कि वह आईपीएल में कुछ गलत कर रहे हैं। अभी उनसे फिलहाल रोहित और केएल राहुल आगे हैं। राहुल की इंग्लैंड के खिलाफ एक बहुत ही एवरेज सीरीज रही थी, नहीं तो व्हाइट बॉल क्रिकेट में उनका फॉर्म असाधारण रहा है।